अंतर्राष्ट्रीयउत्तराखंडदेशदेहरादून

Uttarakhand Global Investors Summit:44,000 करोड़ के करार:राजदूतों ने भी की शिरकत:मंत्रियों-उद्यमियों ने साथ किया मंथन

खबर को सुने

PM मोदी को CM पुष्कर ने पहाड़ के उत्पादों पर दी जानकारी

Chetan Gurung

CM पुष्कर सिंह धामी के Dream Project माने जा रहे Uttarakhand Global Investors Summit के पहले दिन PM नरेंद्र मोदी के हाथों उद्घाटन के बाद राज्य सरकार के साथ दुनिया की कई बड़ी कम्पनियों ने लगभग 44,000 करोड़ रूपये के करार किए.तमाम देशों के राजदूत भी Summit में अपने देश का प्रतिनिधित्व करने देहरादून आए हैं.मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री को अलग से पहाड़ के उत्पाद विशेष के बारे में जानकारी दी.

PM मोदी को जानकारी देते CM पुष्कर और CS डॉ सुखबीर सिंह संधू
कलाकारों से बात करते PM नरेंद्र मोदी
PM मोदी को उत्तराखंड के उत्पादों की जानकारी देते CM पुष्कर सिंह धामी
Minister सौरव बहुगुणा Address करते हुए
निवेशकों तक बात रखते मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल
मंत्री रेखा आर्य ने भी निवेशकों को संबोधित किया
ऊपर-मंत्री रेखा आर्य-सचिव डॉ R राजेश कुमार,Graphic Era समूह के प्रमुख डॉ कमल घनशाला और अन्य निवेशक
कम्पनियों के साथ CM पुष्कर की मौजूदगी में

शुक्रवार को FRI कैंपस में ही Ev (इलेक्ट्रिक व्हेकल्स), ⁠रियल एस्टेट, ⁠हेल्थ केयर, ⁠हायर एजुकेशन,  ⁠पर्यटन, फिल्म, आयुष और ऊर्जा क्षेत्रों में निवेश के लिए MoU हुए.डेनमार्क, इजिप्ट, एरिट्रिया, जिबूती, इथोपिया, घाना, ग्रीस, गुयाना, जैमेका, कजाखस्तान, Lao PDR, लेसोथो, मलावी, मालदीव के राजदूत भी आए हुए हैं.

Summit स्थल पर CM पुष्कर के बेटों से बातें करते पूर्व CM और पूर्व राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी

पहले दिन अलग-अलग सत्र सम्बंधित महकमों और उनके मंत्रियों-सचिवों के साथ उद्यमियों और बड़ी कम्पनियों के प्रतिनिधियों आयोजित किए गए. विद्यालयी, तकनीकी और उच्च शिक्षा सत्र में मंत्री डॉ धन सिंह रावत ने कहा कि उत्तराखंड राज्य शिक्षा के क्षेत्र में निवेशकों को सरकार हर संभव सहयोग देगी.उच्च शिक्षा सचिव शैलेश बगोली ने कहा कि  राज्य में विद्यालय, उच्च और तकनीकी के विकास के लिए निजी और सरकारी संस्थानों को एक साथ मिलकर कार्य करना होगा।  

सचिव रविनाथ रमन,Graphic Era विवि समूह के प्रमुख डॉ कमल घनशाला, शूलिनी यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर प्रो0 अतुल खोसला, संपर्क फाउंडेशन से विनीत नय्यर, यूपीएस के चांसलर डॉक्टर सुनील राय, द दून स्कूल के चेयरमैन अनूप सिंह बिश्नोई, शारदा यूनिवर्सिटी के चांसलर प्रदीप कुमार गुप्ता सहित निवेशक और डेलगेट्स भी मौजूद थे।

एक अन्य सेशन की अध्यक्षता कर रहे उत्तराखण्ड के मंत्री सौरभ बहुगुणा ने कहा कि सरकार निवेशकों को उत्तराखण्ड की दो प्रमुख ज्वलंत समस्याओं, पहाड़ से हो रहे पलायन और बेरोजगारी के समाधान में भागीदार बनाना चाहती है। सचिव (उद्योग) विनय शंकर पाण्डेय ने कहा कि सरकार ने हाल ही में विभिन्न क्षेत्रों में 27 नई नीतियां लागू की है. अनेक सेक्टर में अंब्रैला पॉलिसी कार्य कर रही है। उद्यमियों और निवेशकों ने भी अपने अनुभव और सुझाव साझा किए.

अकुम्स ड्रग्स एंड फार्मास्यूटिकल्स लिमिटेड के प्रबंध निदेशक संदीप जैन, गोदरेज ग्रुप से राकेश स्वामी, टेक्योन ऑटोमोटिव प्राइवेट लिमिटेड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी नमन गांधी और JBM ग्रुप के अध्यक्ष बी.बी. गुप्ता ने उत्तराखण्ड को आकर्षक निवेश स्थल करार दिया. फार्मा, ऑटो, हेल्थ एवं वेलनेस, हॉस्पिटल, आयुर्वेद, एरोमा, फुटलूज इंडस्ट्री क्षेत्रों में उद्यम स्थापित करने में विशेष रुचि दिखाई। अभिनव पॉलिसी, सस्ता, मेहनतकश और समर्पित स्किल्ड श्रमबल, शुद्ध आबोहवा और यहाँ के लोगों में आत्मीयता से वे प्रभावित दिखे।

महानिदेशक (उद्योग) रोहित मीणा ने भी विचार प्रकट किए.हेल्थ केयर सत्र की अध्यक्षता करते हुए उत्तराखंड की महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास विभाग की मंत्री रेखा आर्या ने कहा कि उत्तराखंड में निजी क्षेत्र की भागीदारी को प्रोत्साहित करने पर विशेष ध्यान दिया गया है। उत्तराखंड के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सचिव डा. आर. राजेश कुमार ने उत्तराखंड के हेल्थ केयर एवं फार्मा सेक्टर में निवेश की संभावनाओं व जरूरतों पर विचार रखते हुए चिकित्सा और स्वास्थ्य के क्षेत्र में निजी क्षेत्र के सहयोग की आवश्यकता प्रकट की।

टाटा MG के VP डा. प्रशांत नाग, ग्राफिक एरा हॉस्पिटल के चेयरमैन प्रो. कमल घनशाला, हेल्थकेयर रोडिक कंसल्टेंट प्रा.लि. के एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर आलोक सक्सेना,  कृष्णा डाईग्नोस्टिक की प्रतिनिधि करिश्मा, NHM (उत्तराखंड) की मिशन डायरेक्टर स्वाति एस भदौरिया ने सत्र में विचार रखे। रियल एस्टेट सेक्टोरल सत्र के दौरान विभिन्न कंपनियों के संग MoU भी हुए. 

इस अवसर पर शहरी विकास एवं  आवास मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल ने निवेशकों से कहा कि उत्तराखंड निवेश की असीम संभावनाओं से भरा है। धरती पर स्वर्ग कहीं है तो वो हमारा उत्तराखंड है। भारत सरकार के आवास एवं विकास मंत्रालय के आर्थिक सलाहकार  दिनेश कपिला ने कहा कि वर्ष 2016 में रेरा कानून के आने के बाद इस सेक्टर को रेगुलेट किया गया। नीतियां ऐसी बनानी चाहिए जिसमें भूमि आसानी से उपलब्ध हो और अफोर्डेबल हो।

ACS आनंद वर्धन ने कहा कि आने वाले दिनों में दिल्ली-देहरादून के मध्य इकनोमिक कॉरिडोर का निर्माण पूरा होने पर इन दोनों शहरों के बीच की दूरी महज ढाई घंटे में पूरी हो सकेगी। दिल्ली NCR के सबसे करीबी कैपिटल सिटी होने का भी निश्चित रूप से उत्तराखंड को लाभ मिलता है। ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल परियोजना का निर्माण पूरा होने के बाद पर्वतीय क्षेत्रों में भी कनेक्टिविटी और बेहतर हो सकेगी।

उन्होंने बताया कि लैंड पुलिंग नियमों और हाउसिंग बायलॉज का भी सरलीकरण किया जा रहा है। पार्किंग के अलावा हाउसिंग प्रोजेक्ट्स में FAR में भी शिथिलता प्रदान की जा रही है। आने वाले दिनों में देहरादून में मेट्रो नियो परियोजना को प्रस्तावित किया गया है. रोपवे परियोजनाओं को भी गति प्रदान की जा रही है।

एम्मार इंडिया के CEO कल्याण चक्रबर्ती ने भी इस अवसर पर अपने विचार प्रस्तुत किए। इस अवसर पर आवास सचिव SN पांडेय, टिहरी झील विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष प्रकाश चंद दुम्का, MDDA के सचिव एमएस बर्निया भी उपस्थित थे। Summit का उद्घाटन करने के बाद प्रधानमंत्री ने Summit Campus का निरीक्षण किया.कलाकारों से मुलाकात की.मुख्यमंत्री ने उनको पहाड़ी उत्पादों के बारे में जानकारी दी.इन उत्पादों में मोदी ने भी खासी दिलचस्पी दिखाई.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button